छत्तीसगढ़

शहर के बीच केलो विहार में तैयार होगी 6.75 एकड़ की रिहायश, हटेगा पोल्ट्री फार्म

रायगढ़.
शहर के बीच केलो विहार के 6.75 एकड़ में पशुपालन विभाग का पोल्ट्री फार्म है। जो अब हटने जा रहा है। इस स्थान पर हाउसिंग बोर्ड आवासीय प्रोजेक्ट लेकर आने वाला जिसमें सरकारी क्वार्टर्स भी बनेंगे। कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा की विशेष पहल से यह प्रोजेक्ट शासन द्वारा स्वीकृत कर लिया गया है।

इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए कार्यपालन अभियंता हाउसिंग बोर्ड शशिकांत शर्मा ने बताया कि रिडेवलपमेंट प्लान के तहत केलो विहार में स्थित पोल्ट्री फार्म को शिफ्ट किया जा रहा है। करीब 6.5 एकड़ जमीन यहां हाउसिंग बोर्ड को मिलेगी। जिसमें 5.50 एकड़ में हाउसिंग प्रोजेक्ट लॉन्च किया जाएगा। 1.25 एकड़ भूमि पर शासकीय आवास बनाए जायेंगे। कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने रिडेवलपमेंट प्लान के तहत तैयार हो रहे प्रोजेक्ट के लिए विशेष पहल की। जमीन का सर्वे कर प्रस्ताव तैयार किया गया। जिसे पास कर शासन के समक्ष मंत्री मंडल के उच्च अधिकार समिति को भेजा गया। वहां से भी प्रस्ताव को हरी झंडी मिल चुकी है। जिसके बाद भूमि आवंटन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जो अगले 1 माह में पूरी कर ली जाएगी। ईई हाउसिंग बोर्ड शशिकांत शर्मा ने बताया कि आर्किटेक्ट प्लान के साथ अगले 2 माह में प्रोजेक्ट को शुरू करने की तैयारी चल रही है।

ईई हाउसिंग बोर्ड शशिकांत शर्मा ने बताया कि इस प्रोजेक्ट में लगभग 85 एमआईजी डुप्लेक्स इंडिविजुअल मकान, 48 एमआईजी फ्लैट्स और 48 एलआईजी फ्लैट्स बनाए जायेंगे। अलावे इसके यहां 20 दुकानें भी बनाई जाएंगी। प्रोजेक्ट में क्लब हाउस, गार्डन, पार्किंग इत्यादि सुविधाएं भी रहेंगी। शेष 1.25 एकड़ में 54 शासकीय आवास तैयार किए जायेंगे। पोल्ट्री फार्म के रिहायशी इलाके के बीच में होने से बदबू और गंदगी की शिकायतें आती रहती थीं। उप संचालक पशुपालन तंवर ने बताया कि पोल्ट्री फार्म को संबलपुरी में शिफ्ट किया जा रहा है। शिफ्टिंग के पश्चात इलाके के रहवासियों को इन समस्याओं से राहत मिलेगी। वहीं यहां एक सुंदर कॉलोनी भी आकार लेगी। प्रोजेक्ट के तहत यहां करीब 20 दुकानें खुलेंगी। जिससे एक अच्छा मार्केट भी यहां डेवलप होगा।

प्रोजेक्ट के बार जानकारी देते हुए ईई शर्मा ने बताया कि छत्तीसगढ़ शासन की रिडेवलपमेंट स्कीम के अंतर्गत यह प्रोजेक्ट लॉन्च किया जा रहा है। इस स्कीम के तहत शासन के ऐसे भवन या भूमि जो पहले शहर के बाहरी इलाके में थे किंतु आज शहर का हिस्सा हैं। यदि उस भूमि का बेहतर उपयोग किया जा सकता है तो रिडेवलपमेंट प्लान के तहत वहां कार्य किया जाएगा। इसी स्कीम में केलो विहार स्थित पशुपालन विभाग की पोल्ट्री फार्म को भी शिफ्ट किया जाएगा और वहां आवासीय भवन तैयार किए जायेंगे।

Aakash

Back to top button