राजनीति

MP में BJP ने ढूंढी एंटी इनकम्बेंसी की काट? जानें क्या कहती है जनता

भोपाल

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2023 के लिए बीजेपी ने 135 प्रत्याशी मैदान में उतार दिए हैं. चार कैंडिडेट लिस्ट के जरिए बीजेपी ने 24 मंत्रियों और केंद्रीय मंत्रियों समेत 7 सांसदों को टिकट दिया है. क्या चुनाव जीतने के लिए यह बीजेपी की कोई बड़ी रणनीति है? क्या इससे बीजेपी ने प्रदेश में एंटी इनकम्बेंसी की काट ढूंढ ली है? इस सवाल का जवाब जानने के लिए एबीपी के लिए सी वोटर ने सर्वे किया है, जिसमें जनता ने चौंकाने वाले जवाब दिए हैं.

जानकारी के लिए बता दें, र सर्वे 14 अक्टूबर से 15 अक्टूबर दोपहर तक किया गया है और इसमें 2649 लोगों की राय ली गई है. इस सवाल पर कि क्या मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में मौजूदा सांसदों को उतारने से बीजेपी एंटी इनकम्बेंसी का तोड़ ढूंढ चुकी है, 39 फीसदी जनता ने हां में जवाब दिया. यानी सर्वे में शामिल 39 प्रतिशत लोग मानते हैं कि बीजेपी के सांसदों को विधायकी का टिकट देने का फैसला पार्टी को फायदा पहुंचाएगा.

वहीं, करीब 36 फीसदी लोगों का कहना है कि इससे एंटी इनकम्बेंसी रोकने में बीजेपी को कोई मदद नहीं मिलेगी. इसके अलावा, 10 प्रतिशत लोग यह भी कह रहे हैं कि प्रदेश में एंटी इनकम्बेंसी है ही नहीं, इसलिए बीजेपी को परेशान होने की जरूरत नहीं.

क्या MP में सांसदों को विधानसभा चुनाव में उतारकर BJP ने एंटी इनकम्बेंसी की काट ढूंढ ली है?
 हां-    39%
 नहीं-  36%
एंटी इनकम्बेंसी नहीं है- 10%      
कह नहीं सकते-  15%

 

Back to top button