देश

आगरा में चलती पातालकोट एक्सप्रेस में आग,3 कोच पूरी तरह जले

आगरा

आगरा कैंट से ग्वालियर की ओर अप ट्रैक पर बढ़ रही पातालकोट एक्सप्रेस (14624) की जनरल बोगियों में अचानक लाइटें फटने से आग लग गई। कैंट से करीब 8 किमी दूर भांडई स्टेशन से बढ़ते ही हुए हादसे के शोर पर एक यात्री ने चेन पुलिंग कर दी। कुछ यात्री कूदे तो बाकी को ट्रेन रुकने पर सुरक्षित उतारा गया। घटना में दो डिब्बे पूरी तरह, जबकि दो डिब्बे आंशिक जले हैं। 13 यात्री झुलसे व घायल हुए हैं, जिनका एसएन मेडिकल कॉलेज व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर इलाज चल रहा है। डीआरएम ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं। हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिए गए हैं। आग की घटना से डेढ़ दर्जन ट्रेन प्रभावित रहीं। ट्रेनों में सवार हजारों यात्री घंटों परेशान रहे। जो ट्रेन जाजऊ, मनिया, बिल्लोचपुरा, रुनकता, कीथम आदि स्टेशनों पर खड़ी थी, उनके मौजूद यात्रियों को खानपान और पीने के पानी भी नहीं मिला।

पंजाब के फिरोजपुर से चलकर मध्य प्रदेश के सिवनी तक जाने वाली पातालकोट एक्सप्रेस बुधवार को दोपहर बाद 3.13 बजे आगरा कैंट स्टेशन पहुंची। यहां से 3.24 बजे छूटने के करीब 11 मिनट बाद ट्रेन भांडई स्टेशन से बढ़ी ही थी कि घटना हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक इंजन के बाद सात जनरल बोगियां थीं। ट्रेन रफ्तार पकड़ ही रही थी कि चौथी जनरल बोगी की लाइटें अचानक आवाज करते हुए फटने लगीं। इससे यात्रियों में भगदड़ मच गई।

शोर मचने पर झांसी के यात्री राहुल ने चेन पुलिंग कर दी। ट्रेन धीमी हुई तो लोग कूद-कूदकर भागने लगे। ट्रेन कुछ आगे रुकी तो बाकी के यात्रियों में उतरने की होड़ मच गई। इसमें आगे के यात्री तो सुरक्षित उतर गए, जबकि पीछे रह गए यात्रियों में 13 यात्री घायल हो गए। इनमें सात लोग झुलसे बताए गए हैं, जबकि छह मामूली रूप से घायलों का पीएचसी पर इलाज किया गया।

यात्री शिवम को करीब 12 फीसदी झुलसा बताया गया है। हादसे की सूचना रेल अधिकारियों तक पहुंची तो पांच दमकल भेजी गईं। एंबुलेंस से घायलों को अस्पताल भेजा गया। जब तक आग पर काबू पाया जाता दो कोच पूरी तरह जबकि दो अन्य कोच आंशिक जल गए थे।

यात्रियों को दूसरी ट्रेन से किया रवाना
सुरक्षित बचे यात्रियों को आगे के लिए दुर्ग हमसफर ट्रेन से रवाना किया गया। वहीं घायल हुए यात्रियों को एंबुलेंस के जरिए आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज पहुंचाया गया।

3 घंटे 27 मिनट बंद रहा आगरा-मुंबई रेल ट्रैक
पातालकोट एक्सप्रेस में हादसे के चलते आगरा-मुंबई रेल ट्रैक 3 घंटे 27 मिनट तक बंद रहा। शाम करीब सात बजे इसे सुचारू किया जा सका। ट्रैक चालू होने पर पहली ट्रेन नई दिल्ली-भोपाल वंदेभारत एक्सप्रेस 2 घंटे 25 मिनट की देरी से आगे बढ़ी। वहीं अप और डाउन की करीब डेढ़ दर्जन से अधिक ट्रेनें लेटलतीफी का शिकार होने से हजारों यात्री परेशान रहे।

डीआरएम आगरा रेल मंडल तेज प्रकाश अग्रवाल के अनुसार पातालकोट एक्सप्रेस के जनरल कोच में भांडई स्टेशन के पास आग लगी थी। स्टाफ ने स्टेशन मास्टर को सूचना दी। ओएचई को शट डाउन करते हुए ट्रेन को रोका गया। आग पर काबू पा लिया गया है। घटना की जांच की जाएगी।

हेल्पलाइन नंबर
1. मथुरा
0565-2402009,
0565-2402008
2. आगरा
0562-2421287
0562-2460048
3. धौलपुर
0562-2420979

ये यात्री झुलसे
1- राहुल (18) पुत्र मूलचंद निवासी झांसी
2- शिवम (18) पुत्र जयराम निवासी पलवल, फरीदाबाद
3- मोहित (21) पुत्र मनोज निवासी पलवल, फरीदाबाद
4- मनीराम पुत्र घासीराम निवासी विदिशा
5- रामेश्वर (24) पुत्र भगवान सिंह निवासी कलाल खेड़िया, आगरा
6- हरदयाल (59) सिंह पुत्र स्व. किशन चंद निवासी शाहगंज आगरा
7- मनोज कुमार (34) पुत्र निरंजन लाल निवासी नंदनगरी दिल्ली
छह अन्य यात्री मामूली रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया।

साढ़े तीन घंटे बंद रहा देश का सबसे व्यस्त दिल्ली-मुंबई रेल ट्रैक

पातालकोट एक्सप्रेस के दो जनरल कोच में आग के चलते दिल्ली-मुंबई ट्रैक साढ़े तीन घंटे बाधित रहा। कोचों में लगी आग को बुझाने के लिए रेलवे ने सेक्शन में ओएचई का कनेक्शन काट दिया था। आग बुझाने के दौरान रेल ट्रैक पर बड़ी संख्या में दमकल कर्मी, रेलकर्मी और आसपास के ग्रामीण जमा थे। निजामुद्दीन से चलकर रानी कमलापति स्टेशन जाने वाली वंदेभारत एक्सप्रेस 2 घंटा 25 मिनट की देरी से आगरा कैंट से रवाना हुई। इसके अलावा अप और डाउन की डेढ़ दर्जन ट्रेनों को आसपास के स्टेशनों पर घंटों खड़ा होना पड़ा।

दोपहर 3.30 बजे करीब पातालकोट एक्सप्रेस के इंजन से चौथी बोगी जो जनरल कोच था, उसमें सबसे पहले आग लगी। इसके बाद आग इंजन की तरफ लगे जनरल कोच और इंजन से पांचवी बोगी एस-7 की ओर बढ़ रही थी। चेन पुलिंग के बाद रुकी ट्रेन में सवार रेलकर्मियों ने तत्परता दिखाते हुए एस-7 कोच को पहले ही अलग कर लिया था।

आग के चलते रेलवे ने सेक्शन की ओएचई का कनेक्शन काट दिया था। साथ ही रेल प्रशासन ने अप और डाउन का रेल ट्रैक बंद कर दिया। ट्रैक बंद होते ही वंदेभारत एक्सप्रेस, गोवा एक्सप्रेस, गोंडवाना एक्सप्रेस, हमसफर एक्सप्रेस, ताज एक्सप्रेस, पंजाब मेल, झेलम एक्सप्रेस सहित डेढ़ दर्जन से अधिक ट्रेनों को तुरंत आसपास के स्टेशनों पर रोक दिया गया।

ट्रेनों में सवार हजारों यात्रियों रहे परेशान
पातालकोट एक्सप्रेस में आग की घटना से डेढ़ दर्जन ट्रेन प्रभावित रहीं। ट्रेनों में सवार हजारों यात्री घंटों परेशान रहे। जो ट्रेन जाजऊ, मनिया, बिल्लोचपुरा, रुनकता, कीथम आदि स्टेशनों पर खड़ी थी, उनके मौजूद यात्रियों को खानपान और पीने के पानी भी नहीं मिला। बिल्लोचपुरा स्टेशन पर ट्रेन में बैठे झांसी निवासी प्रदीप पाल का कहना था कि उनके छोटे बच्चे को दूध की जरूरत थी। उन्होंने सोचा आगरा कैंट जाकर ले लेंगे। परंतु दो घंटे से अधिक समय से स्टेशन पर ट्रेन रुकी हुई है

Back to top button