व्यापार

सर्च इंजन बाजार में गूगल की हिस्सेदारी 92 प्रतिशत पर बरकरार : रिपोर्ट

नई दिल्ली
 डकडकगो की एक रिपोर्ट के अनुसार सर्च इंजन बाजार के मामले में गूगल ने एक बार फिर अपना दबदबा बरकरार रखा है। इस साल अगस्त तक टेक दिग्गज ने बाजार में 91.7 फीसदी हिस्सेदारी हासिल कर ली है। इसने माइक्रोसॉफ्ट के बिंग, याहू जैसे प्रतिस्पर्धियों को पीछे छोड़़ दिया है।

टेकोपीडिया डॉट कॉम के अनुसार, माइक्रोसॉफ्ट, जिसने खोज इंजन बाजार में गूगल के साथ प्रतिस्पर्धा करने के प्रयास में सबसे पहले अपने बिंग सर्च इंजन में कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) पेश की थी, उसके पास बाजार हिस्सेदारी का केवल तीन प्रतिशत हिस्सा था।

इस महीने की शुरुआत में, माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष और सीईओ सत्य नडेला ने स्वीकार किया कि बिंग सर्च इंजन गूगल जितना अच्छा नहीं है, और एप्पल का डिफ़ॉल्ट सर्च इंजन बनने से वास्तव मं् बिंग को वैश्विक खोज बाजार में बढऩे में मदद मिल सकती है।

अन्य खोज इंजन, जैसे यांडेक्स (1.5 प्रतिशत), याहू (1.2 प्रतिशत), बैदू (1.1 प्रतिशत), और डकडकगो (0.5 प्रतिशत) की बाजार हिस्सेदारी कम थी।

रिपोर्ट के अनुसार अगस्त तक गूगल ने वैश्विक मोबाइल खोज इंजन बाजार में 95.2 प्रतिशत की आश्चर्यजनक हिस्सेदारी हासिल कर ली।
गूगल के बाद, यांडेक्स और बैदू दोनों के पास बाजार का 1.3 प्रतिशत हिस्सा था। याहू ने 0.6 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल की, जबकि बिंग और डकडकगो ने 0.5 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल की।

इसके अलावा, रिपोर्ट में कहा गया है कि 26.7 प्रतिशत के साथ अमेरिका गूगल डॉट कॉम पर ट्रैफिक का शीर्ष स्रोत था, जबकि भारत (4.6 प्रतिशत), ब्राजील (4.4 प्रतिशत), यूके (3.9 प्रतिशत), और जापान (3.9 प्रतिशत) अन्य प्रमुख योगदानकर्ता थे।

जुलाई में गूगल डॉट कॉम पर 85.3 बिलियन विजिट हुईं, विजिटर ने औसतन लगभग 10 मिनट खर्च किए। उन्होंने हर बार लगभग 8.6 पृष्ठ देखे, जिसमें बाउंस दर 28.7 प्रतिशत थी।

संतुष्टि स्कोर 7 प्रतिशत बढ़ गया, जो 2022 में 75 से बढ़कर 2023 में 80 हो गया। रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि यह वृद्धि अपने खोज एल्गोरिदम और उपयोगकर्ता अनुभव को बेहतर बनाने के लिए गूगल के समर्पण को उजागर करती है।

फ्यूल ने 17वां स्थापना दिवस मनाया, 90 वंचित छात्रों को प्रदान की छात्रवृत्ति

पुणे
 हाशिए पर रहने वाले युवाओं को सशक्त बनाने के लिए समर्पित एक गैर-लाभकारी संगठन फ्यूल (फ्रेंड्स यूनियन फॉर एनर्जाइजि़ंग लाइव्स) ने वंचित समुदायों के उत्थान के लिए अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हुए पुणे में अपना 17वां स्थापना दिवस मनाया। इस कार्यक्रम में आकर्षक गतिविधियां शामिल थी। इसमें 90 वंचित महिला छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करना शामिल था, जो कौशल विकास और व्यावसायिक प्रशिक्षण के माध्यम से जीवन को बेहतर बनाने के लिए फ्यूल के समर्पण को प्रदर्शित करता था।

इस महत्वपूर्ण अवसर पर प्रतिष्ठित हस्तियां, नीति निर्माता, उद्योग जगत के नेता और सरकारी प्रतिनिधि उपस्थित थे। उत्सव का मुख्य आकर्षण फ्यूचर स्किल्स समिट था। शिखर सम्मेलन में शिक्षा और कौशल विकास में भविष्य के कौशल, टैलेंट एक्विजिशन और सीएसआर में इनोवेशन पर चर्चा हुई।

इन छात्रों को उच्च शिक्षा और आशाजनक करियर के लिए सशक्त बनाने का लक्ष्य है। इस कार्यक्रम में फ्यूल छात्रों की दृढ़ता को प्रदर्शित करने वाली पुस्तक फ्यूल होप स्टोरीज़ का अनावरण और सक्षम डिजिटल कौशल कार्यक्रम का शुभारंभ भी शामिल था।

कार्यक्रम छात्रों को कंप्यूटर साक्षरता, कोडिंग, डेटा विश्लेषण, ऑनलाइन संचार, साइबर सुरक्षा और डिजिटल टूल और सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों में दक्षता जैसे आवश्यक कौशल से लैस करता है।

विशिष्ट अतिथि महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष राहुल नार्वेकर ने कहा, फ्यूल के 17वें स्थापना दिवस पर मैं केतन देशपांडे और पूरी टीम को कौशल विकास, प्रशिक्षण और छात्रवृत्ति के माध्यम से वंचित युवाओं को सशक्त बनाने में उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए बधाई देता हूं। प्रमुख बहुराष्ट्रीय कंपनियों और नीति आयोग के साथ सहयोग से प्रमाणित सामाजिक प्रगति के प्रति उनकी प्रतिबद्धता सराहनीय है।
1 मिलियन से अधिक करियर परामर्श सत्र प्रदान करना अनगिनत व्यक्तियों को सार्थक करियर की दिशा में मार्गदर्शन करने में महत्वपूर्ण रहा है। मैं निरंतर सफलता के लिए अपनी शुभकामनाएं देता हूं क्योंकि फ्यूल अपने विश्वविद्यालय परिसर के साथ एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है।

 

Back to top button