देश

युद्ध का असर: टेक कंपनियां करने जा रही हैं बड़ा बदलाव, भारत का फायदा

नई दिल्ली

इजरायल और फिलिस्तीन में हमास के बीच युद्ध का असर सारी दुनिया पर पड़ा है और अब तक सैकड़ों लोगों की जान हमलों में गई है। दुनिया के अलग-अलग देश इस कार्रवाई को लेकर प्रतिक्रिया दे रहे हैं इजरायल में काम कर रही टेक कंपनियां भी प्रभावित हुई हैं। सामने आया है कि ग्लोबल टेक कंपनियां इजरायल में मौजूद अपने ऑफिस और बिजनेस ऑपरेशंस नए देशों में लेकर जा सकती हैं, जिनमें भारत भी शामिल है।

इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स की मानें तो इजराल-हमास युद्ध के चलते के चलते ढेरों बड़ी टेक कंपनियां अपने ऑफिस इजरायल से अन्य देशों और भारत में शिफ्ट कर सकती हैं। इसके अलावा TCS और Wipro जैसी भारतीय कंपनियां भी अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए इजरायल से ऑफिस और ऑपरेशंस भारत में ला सकती हैं। जाहिर सी बात है कि इस युद्ध के लंबे वक्त तक खिंचने की स्थिति में टेक कंपनियों को नुकसान उठाना पड़ेगा।
 
इजरायल में हैं सैकड़ों टेक कंपनियों के ऑफिस
दुनिया की ढेरों बड़ी मल्टीनेशनल टेक कंपनियों के ऑफिस इजरायल में हैं, जिनकी लिस्ट में Intel, Microsoft और Google जैसे बड़े नाम भी शामिल हैं। इस देश में 500 से ज्यादा टेक कंपनियां सक्रिय हैं, जिनमें से कुछ ग्लोबल कैपेबिलिटी सेंटर्स (GCCs) और कुछ रिसर्च एंड डिवेलपमेंट (R&D) सेंटर्स हैं। ये कंपनियां 10 लाख से ज्यादा लोगों को नौकरियां दे रही हैं।

भारत के अलावा ये देश भी बन सकते हैं विकल्प
एक्सपर्ट्स का मानना है कि टेक कंपनियां उन देशों में ही अपने ऑपरेशंस शिफ्ट करना चाहेंगी, जिनकी टाइम जोन इजरायल से मेल खाती हैं। ऐसा करने की स्थिति में उन्हें अपने बिजनेस प्लान में बड़ा बदलाव नहीं करना होगा। ऐसी स्थिति में भारत के अलावा जो देश टेक कंपनियों के लिए विकल्प बन सकते हैं, उनकी लिस्ट में मिडिल ईस्ट और ईस्टर्न यूरोप के देश शामिल हैं। आपको बता दें, गाजा पट्टी में सक्रिय हमास की ओर से पिछले सप्ताह इजरायल पर रॉकेट से किए गए हमलों के बाद इजरायल ने भी जवाबी हमले किए और प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने युद्ध की घोषणा कर दी। अब तक इन हमलों में सैकड़ों जानें गई हैं और हजारों घायल हुए हैं। यही वजह है कि टेक कंपनियां सुरक्षा संबंधी चुनौतियों का सामना कर रही हैं।

 

Back to top button