राजनीति

BJP में दक्षिण-पश्चिम, कांग्रेस में उत्तर, नरेला हुजूर, बैरसिया और गोविंदपुरा विस में जोड़तोड़

भोपाल

आचार संहिता लगते ही भाजपा के घोषित प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है। भोपाल में सात विधानसभा क्षेत्र हैं। इनमें से दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र ऐसा है, जहां अब तक भाजपा प्रत्याशी घोषित नहीं हुआ है। जबकि कांग्रेस ने अब तक सातों विधानसभा क्षेत्रों में उम्मीदवार घोषित नहीं किए हैं। लेकिन मध्य और दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में सिटिंग एमएलए होने के कारण टिकट तय माने जा रहे हैं। उत्तर में भी ऐन वक्त पर ऐसा हो सकता है। अन्य विधानसभा क्षेत्रों में जोड़तोड़ जारी है।

दक्षिण-पश्चिम
भाजपा: यहां से पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता की दावेदारी थी, लेकिन उनका टिकट घोषित नहीं हुआ है। इस बीच यहां से अनिल अग्रवाल लिली, राहुल कोठारी, रश्मि शुभश्री का नाम चर्चाओं में आए हैं। इसके साथ ही दो अन्य नेता भी दावेदार हैं। एक ऐसे नेता का नाम भी चल रहा है जो दूसरे दल से है।
कांग्रेस : पूर्व मंत्री पीसी शर्मा यहां से दावेदार हैं। हालांकि अभी उनका टिकट घोषित नहीं हुआ है, लेकिन माना जा रहा है कि उनकी दावेदारी तय है। दूसरी ओर संजीव सक्सेना भी यहां से प्रबल दावेदार हैं।

गोविंदपुरा-विधानसभा
भाजपा: यह क्षेत्र भाजपा का गढ़ माना जाता है। यहां से पार्टी ने एक बार फिर कृष्णा गौर पर दांव लगाया है। शुरूआत में कुछ इलाकों से हालांकि उनका छिटपुट विरोध हुआ था, लेकिन पार्टी ने उसे संज्ञान में नहीं लिया था और उनका टिकट तय हो गया।   
कांग्रेस : कांग्रेस के लिए यह सीट जीतना टफ है। इसलिए पार्टी सोच समझकर जिताऊ उम्मीदवार खोज रही है। अब तक किसी नाम पर सहमति नहीं बनी है। जो नाम चर्चा में हैं उनमें रवीन्द्र साहू, दीप्ति सिंह, रामबाबू शर्मा शामिल हैं।

उत्तर-विधानसभा
भाजपा: पार्टी ने आलोक शर्मा को प्रत्याशी घोषित कर दिया है।  कल उनके कार्यालय का भी उद्घाटन हो गया है।
कांग्रेस: यहां पार्टी एक बार फिर बीमार होने के बाद भी विधायक आरिफ अकील को टिकट देने पर विचार कर रही है। दरअसल टिकट को लेकर इनके बेटे और भाई में ही झगड़ा है। विवाद को टालने के लिए अकील पर फिर से दांव लगाया जा सकता है। दूसरी ओर नासिर इस्लाम यहां से तगड़े दावेदार हैं। इस सीट पर एआईएमआईएम और आप भी अपना उम्मीदवार उतारेगी।

मध्य-विधानसभा
भाजपा: पार्टी ने धु्रवनारायण सिंह को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। इन्होंने यहां पर अपना प्रचार शुरू कर दिया है। सिंह यहां से पहले भी विधायक रह चुके हैं।
कांग्रेस : पार्टी ने अभी उम्मीदवार तय नहीं किया है। लेकिन विधायक होने के कारण कांग्रेस द्वारा आरिफ मसूद को ही उम्मीदवार के रूप में उतारना तय माना जा रहा है। इस सीट पर भी उत्तर की तरह एआईएमआईएम और आम आदमी पार्टी भी अपना उम्मीदवार मैदान में उतारेगी।

नरेला-विधानसभा
भाजपा: यहां से पूर्व मंत्री विश्वास सारंग को एक बार फिर पार्टी ने मौका दिया है। उम्मीदवार घोषित होने के बाद सारंग ने अपना प्रचार अभियान शुरू कर दिया है।
कांग्रेस : महेन्द्र सिंह चौहान, मनोज शुक्ला सहित कई अन्य कांग्रेस नेता यहां से दावेदारी कर रहे हैं। इस सीट पर कांग्रेस के एक वरिष्ठ ब्राह्मण नेता को पार्टी मैदान में उतार सकती है।

हुजूर-विधानसभा
भाजपा: पार्टी ने वर्तमान विधायक रामेश्वर शर्मा को फिर से मैदान में उतारा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उन्हें विजयीभव का आशीर्वाद भी दिया है।
कांग्रेस : यहां से पूर्व विधायक जितेन्द्र डागा, नरेश ज्ञानचंदानी, अवनीश भार्गव, विष्णु विश्वकर्मा टिकट के लिए दावेदारी कर रहे हैं। डागा पहले भाजपा से विधायक रह चुके हैं और ज्ञानचंदानी पिछला विस चुनाव हार चुके हैं।

बैरसिया-विधानसभा
भाजपा: वर्तमान विधायक विष्णु खत्री को एक बार फिर भाजपा ने मैदान में उतारा है। यह क्षेत्र अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है।
कांग्रेस : पार्टी से जयश्री हरिकरण एक बार फिर टिकट के लिए जोर अजमाईश कर रही हैं। इसके साथ ही रामभाई मेहर दावेदार हैं। जयश्री पिछला चुनाव हार चुकी हैं, हालांकि हार जीत में अंतर कम था। इसलिए पार्टी इनके नाम पर गंभीर हैं। एक अन्य नाम भी चर्चा में हैं।

Back to top button