मध्यप्रदेश

गोपनीय प्रतिवेदन ने अटकाए ढाई सौ कर्मियों के प्रमोशन

भोपाल

आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग के अंतर्गत आने वाले स्कूलों और कार्यालयों में पदस्थ 246 प्राचार्य, अनुसंधान अधिकारी और अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों के गोपनीय प्रतिवेदन दस साल से गायब है इसके चलते उन्हें समयमान वेतनमान और अन्य प्रमोशन देने में बाधा आ रही है।

जनजातीय आयुक्त ने प्रदेश के सभी संभागीय उपायुक्त जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति विकास तथा सहायक आयुक्त, जिला संयोजक जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति विकास को पत्र लिखकर वर्ष 2014 से लेकर 2023 तक के अप्राप्त गोपनीय प्रतिवेदन की जानकारी मांगी है। अधिकारियों और कर्मचारियों को इन्हीं गोपनीय प्रतिवेदन के आधार पर समयमान वेतनमान और पदोन्नति समय-समय पर दी जाती है।

इनकी नौ साल की सीआर गायब
साहेब सिंह मरावी कन्या उमावि बजांग डिंडौरी की वर्ष 2015 से 2023,  परसराम दोहरे शासकीय आवासीय विद्यालय श्योपुर की 2014 से 2013,  रामवरन सिंह सिसौदिया उमावि गबनाला खरगौन वर्ष 2014 से 2023, पनिका मुरिल  वर्ष 2014 और 2018 से 2023।

इन प्राचार्यों की गायब है सीआर
अरुण सिंह प्राचार्य गुरुकुलम आवासीय विद्यालय इंदौर,  ओमप्रकाश अग्रवाल, प्राचार्य उमावि कैसूर धार, ईश्वरदयाल बिसेन प्रचार्स मावि केदारपुर सिवनी,  शोभाग चैट्टी  प्राचार्य कन्या उमावि निवास मंडला,  वामनराव धोटै प्राचार्य कन्या उमावि आठनेर बैतूल, ईश्वर चंद शर्मा उत्कृष्ट बालक उमावि ठीकरी बड़वानी सहित कई अन्य।

Aakash

Back to top button