बिहार

पंचायत की प्रताड़ना से तंग आकर, युवक ने की आत्महत्या

धनबाद
धनबाद के भलजोरिया के कुछ पंचों की प्रताड़ना से आहत पिठाकियारी निवासी तपन दास (45 वर्ष) ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली। इससे पहले तपन ने एक वीडियो बनाया, जिसमें उसने खुदकुशी के लिए पंचों को जिम्मेवार ठहराया है। कहा जा रहा है कि तपन पर महिला रिश्तेदार से जोर-जबर्दस्ती का आरोप लगा था। इसी को लेकर पंचायती के दौरान मारपीट, अर्धनग्न कर सड़क पर घुमाने, थूक चटवाने जैसी घटना से वह आहत था। आत्महत्या से पहले उसने पुलिस से मामले की लिखित शिकायत की थी। इसमें कहा था कि उसके ऊपर झूठा आरोप लगाकर प्रताड़ित किया गया है। आरोप है कि शिकायत पर पुलिस ने ध्यान नहीं दिया।

तपन ने तीन अक्तूबर को जहर खा लिया था। शुक्रवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। इससे आक्रोशित परिजनों ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर निरसा थाना के गेट पर एंबुलेंस में शव के साथ प्रदर्शन किया। पुलिस ने मामले में मृतक के भांजे कृष्णा गोस्वामी एवं उसकी पत्नी को हिरासत में लिया। लोगों का कहना था कि पुलिस पंचों को गिरफ्तार नहीं कर रही है। मामले में निरसा थाना प्रभारी दिलीप कुमार यादव ने कुछ भी बताने से इनकार किया।

गिड़गिड़ाता रहा परिवार, पंचों ने एक नहीं सुनी

पंचों की ज्यादती से आजिज आकर आत्महत्या करने वाले तपन का शव लेकर ग्रामीणों ने निरसा थाने पर प्रदर्शन किया। इस दौरान मृतक की पली गौता दासी एवं उसके पुत्र ने बताया कि कृष्णा गोस्वामी ने 26 सितंबर को भलजोरिया के कुछ ग्रामीणों के समक्ष तपन पर उसकी पत्नी से जोर-जबर्दस्ती का झूठा आरोप लगाया था। उसी दिन शाम में गांव के कथित पंच पिंटू कुंभकार, उमेश कुंभकार, प्रदीप बनर्जी, दुगाई कुंभकार, करम सिंह, रंजीत कुंभकार, राणा विजय कुंभकार, नारायण कुंभकार, अंबुज कुंभकार समेत अन्य लोगों ने भलजोरिया के काली मंदिर में बैठक कर तपन को काफी अपमानित किया।

गीत के अनुसार हम लोग हाथ जोड़कर माफी मांगते रहे। कहा भी कि यदि तपन ने किसी से जोर-जबदस्ती की है तो उसका सबूत दीजिए। तपन ने गिड़गिड़ाते हुए कहा भी कि मेरी मेडिकल जांच करा ली जाए, मैं गलत नहीं हूं। मगर पंचो ने नहीं सुनी। उन लोगों ने उसके साथ मारपीट की। कपड़े फाड़कर सड़क पर नंगा घुमाया और थूक चटवाया। समाज में अपनी प्रतिष्ठा समाप्त होने से लज्जित होकर तपन जहर खा लिया। इससे पहले उसने अपने मोबाइल में वीडियो बनाया।

 

Back to top button