छत्तीसगढ़

ईद-उल-जुहा पर गौवंश की हत्या पर लगाए रोक, VHP की राज्य सरकारों से मांग

 रायपुर .

 विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने देश की राज्य सरकारों से ईद-उल-जुहा के मौके पर गौवंश की हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग की है। विहिप महामंत्री मिलिंद परांडे ने मीडिया से बातचीत में कहा, मुसलमानों के त्यौहार ईद-उल-जुहा पर देशभर में लाखों पशुओं की हत्याएं होती हैं, लेकिन सुनने में आया है कि इस बार 29 जून को मनाए जाने वाले ईद-उल-जुहा पर भारत के स्थान-स्थान में लाखों गौवंश को काटने के लिए उन्हें पहले से ही लाकर रखा गया है।

हालांकि, दुनियाभर के अन्य देशों में ईद पर गौवंश नहीं काटा जाता तो, भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश में ही गौवंश को काटने का षड़यंत्र और हठ क्यों किया जाता है? निश्चित ही, ईद के नाम पर हिन्दुओं की आस्था को चोट पहुंचाने के लिए गौवंश की दुर्दांत हत्याएं की जाती है और इस बार भी उनकी योजना है जो कि हिन्दू समाज को किसी भी परिस्थिति में स्वीकार्य नहीं है। भारत भगवान श्रीराम, भगवान श्रीकृष्ण, श्रीमहावीर, श्री बुद्ध तथा श्री गुरुनानक जी की धरती है, जहां हिन्दू गौवंश की रक्षा के लिए कटिबद्ध है।

विहिप महामंत्री ने कहा, अभी हाल ही में नांदेड महाराष्ट्र में मुसलमानों ने गौवंश को एक स्थान में रखे जाने की बजरंग दल को झूठी सूचना दी। निहत्थे बजरंग दल के कार्यकर्ता जब वहां पहुंचे तो पहले से ही हथियारबंद मुस्लिमों ने घात लगाकर उन पर हमला कर दिया जिसमें एक बजरंग दल के कार्यकर्ता की हत्या भी कर दी गई। गौभक्त हिन्दू समाज को ऐसे षडयन्त्रों से सावधान रहने की आवश्यकता है।

गौवंश की रक्षा करने की देश में परंपरा है। सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय तथा भारतीय कानून देश में गौवंश हत्या निषेध करते है। विश्व हिन्दू परिषद देश की सभी राज्य सरकारों से आग्रह करती है कि ईद-उल-जुहा पर होने वाली गौवंश की हत्याओं को रोकें अन्यथा बजरंग दल के कार्यकर्ता गौवंश की रक्षा के लिए कटिबद्ध हैं, जो लोकतांत्रिक तरीके से अपना काम करेंगे।

   

Aakash

Back to top button